Improve sex stamina

Pyar EK Dhoka Hai- Chapter- 2

ब्लैक मैलिंग का चक्कर

अगले ही पल दोनों ने अगले दिन फिर से इसी समय कैफे में आने का फैसला किया, और निकिता अपने कपड़े समेट कर काउन्टर की और बढ़ती है| जैसे ही वह काउन्टर पर पहुँचती है उसे वहां कोई नजर नहीं आता है| कुछ देर बाद पीछे से नेट कैफे का मालिक अरमान आता है और उसे देखकर निकिता को हलकी सी मुस्कान आ जाती है|

निकिता, अरमान से कहती है – जी| “बताइए कितने रूपये देना है|”

“मेरे हिसाब से सवाल ये होना चाहिए कि मैं आपकी किस तरह से मदद कर सकती हूँ” – अरमान उस पर गंदी निगाहें डालते हुए कहता है

“मुझे माफ़ कीजिये मैं आपका मतलब नहीं समझी” – निकिता उसका जवाब देते हुए कहती है

मैं आपको सबकुछ समझाता हूँ लेकिन उसके लिए क्या आप कुछ देर के लिए मेरे कार्यालय में चल सकती है?

निकिता को उसके इरादे कुछ ठीक नहीं लगे और इसी वजह से निकिता काउन्टर के उपर 500 का नोट फेंक कर कहती है कि मैं आपसे बचे हुए पैसे कल ले लुंगी, और इतना कहकर काउन्टर से जाने लगती है|

रुको मैडम और जरा एक नजर इस कागज़ पर भी तो डाल दो|- “अरमान, निकिता के हाथ मैं एक कागज़ थमाते हुए कहता है|”

निकिता जैसे ही कागज़ की तरफ देखती है उसकी आँखें फटी की फटी ही रह जाती है| कागज़ के अंदर एक फोटो था, जिसमे निकिता नग्न अवस्था में दिखाई पड़ रही थी|

अरमान, निकिता के हाथ से फोटो लेते हुए कहता है- “कैसा रहेगा अगर हम आगे की बात मेरे कार्यालय में करे तो?

निकिता सहमी हुई हालत में कहती है – ठीक है||

तभी अरमान काउन्टर पर एक अन्य कर्मचारी को बैठा कर, निकिता के साथ कार्यालय में जाकर बाहर से दरवाज़ा बंद कर देता है||

जैसे ही अरमान, और निकिता कार्यालय के अंदर पहुँचते है| अरमान अपने प्राइवेट कंप्यूटर में एक क्लिप ओपन कर के निकिता को दिखाता है| इस क्लिप में साफ़ तौर पर निकिता को अपने कपड़े खोलते हुए दिखाया गया था, जिसे देखकर निकिता की आँख में से आँसू आने लगते है|

“तुम्हें शर्म नहीं आती है? तुम एक सार्वजनिक साइबर कैफे में अपना अवैध व्यापार चला रही हो?” – अरमान, निकिता से कहता है

“मैं कोई अवैध व्यापार नहीं चला रही हूँ, वास्तव में वो मेरे पति है और हम जल्द ही शादी करने वाले है| वो अमेरिका में रहते है इसलिये हम इस तरह एक- दूसरे से संपर्क कर लेते है|”- निकता ने अपनी नजरे छुपाते हुए अरमान की बातों का जवाब देते हुए कहा

तुम मुझसे झूट कह रही हो, मतलब तुम यह कहना चाहती हो कि तुम्हारे पास एक पर्सनल मोबाइल नहीं है बातें करने के लिए? और तुम यहाँ सार्वजनिक साइबर कैफे पर रोज़ाना इस तरह की हरकतें करती हो, इन सब से आखिर क्या साबित होता है? – अरमान गुस्से में कहता है

मेरा विश्वास कीजिये मैं किसी भी तरह का अवैध व्यापार नहीं चला रही थी| मैं आपसे सबकुछ सच कह रही हूँ|- निकिता ने रोते हुए कहा

इतना सब कुछ देखने के बाद मैं कैसे तुम पर भरोसा कर लूँ कि तुम सच कह रही हो? तुमने जो सार्वजनिक कैफे पर हरकत की है तुम्हें पुलिस इसकी सजा जरुर देगी|- अरमान ने निकिता को धमकाते हुए कहा

दरअसल अरमान तो खुद ही इस बात से निश्चित नहीं था कि ऐसे जुर्म की कोई सजा भी हो सकती है| क्योंकि अगर वास्तव में देखा जाए तो निकिता सच कह रही थी और वह किसी भी हालात में दोषी नहीं थी, और ये बात अरमान काफी अच्छे से जानता था| अरमान बस किसी भी तरह से इस खूबसूरत चिड़िया को अपने पिंजरे में फंसा लेना चाहता था| और दूसरी तरफ अरमान यह भी जानता था कि निकिता के कंप्यूटर में spy software डालकर, जिससे निकिता के कंप्यूटर की जानकारी सीधा अरमान के कंप्यूटर को मिल रही थी| ऐसा कर के गुनाह पूरी तरह से अरमान ने किया था| अगर अरमान पुलिस केस करता भी तब भी फंसना पूरी तरह अरमान की ही था, लेकिन इन सब अधिकारों की जानकारी निकिता को बिलकुल नहीं थी और शायद इसी वजह से निकिता, अरमान के जाल में फँस चुकी थी|

क्योंकि अब निकिता ने इन सभी स्पष्ट सबूतों को देख लिया था, तो निश्चित रूप से उसे लग रहा था कि वो अब फँस चुकी है| और उसे यह भी पता था कि अरमान इन सबुत के जरिये उससे जो चाहे वो करवा सकता है|

देखो मैं तुम्हारे हाथ जोड़ती हूँ कृपया कर के पुलिस की इन सब बारे में कुछ भी मत बताना, तुम जितना बोलोगे मैं तुम्हें उतने पैसे देने को तैयार हूँ|

तुम्हें ऐसा क्यों लगता है कि मैं यह सब पैसे के लिए कर रहा हूँ- अरमान, निकिता की कमर पर हाथ फेरते हुए कहता है

धीरे-धीरे अरमान, निकिता के चेहरे की मुलायम त्वचा पर हाथ फेरते हुए उसे screen की तरफ देखने को मजबूर करता है और कहता है – देखो ये तुम क्या कर रही हो? तुम जैसी खुबसुरत, जवान और अच्छे घर की लड़कियों को यह सब शोभा नहीं देता है|

अब धीरे-धीरे अरमान अपने हाथों को निकिता के मुलायम स्तन पर फेरने लगता है| निकिता यह सब महसूस कर के अपने ही अंदर फूट-फूट कर रो रही थीं|

निकिता एक झटके से अपने स्तन को पकड़कर रोने लगती है और अरमान से कहती हैं – मुझे माफ़ कर दीजिये, मुझसे बहुत बड़ी गलती हो गयी है| मैं एक अच्छे परिवार की हूँ और बहुत ही जल्द मेरी शादी भी होने वाली है|

अरमान कहता है – चुप हो जाओ, नहीं तो मैं अभी पुलिस को फ़ोन लगता हूँ और फिर तुम्हें जो भी कहना है सीधा पुलिस को कहना होगा, इसलिये कुछ देर अपना मुंह बंद कर के चुप हो जाओ|

अभी निकिता के दिमाग में बस यही चल रहा था कि अगर अरमान पुलिस को बुला लेता है तो उसकी कितनी अधिक बेज्जती होने वाली है| वह आखिर इन सब के बारे में अपने माता-पिता को क्या जवाब देगी| और अगर आदित्य को इन सब का पता लग गया तो आदित्य तो क्या, कोई भी लड़का उससे शादी नहीं करेगा| वह अपने ख्यालों में अपनी जिंदगी को बर्बाद होता साफ़-साफ़ देख सकती थी|

देखो अगर तुम चाहती हो कि मैं पुलिस के पास ना जाऊँ और तुम्हारी इस अश्लील वीडियो को वायरल ना करूँ तो तुम्हें वही करना होगा, जो अभी मैं तुमसे कहूँगा|

निकिता, अरमान की आँखों में साफ़-साफ़ देख सकती थी कि आखिर अरमान उससे क्या चाहता है| अब अरमान उसकी छाती पर अपना हाथ फेरता ही है कि इतने मैं निकिता अपनी सलवार को नीचे गीरा देती है| और इसी के साथ अरमान, निकिता के उपरी हिस्सों को जोरों से चूसना शुरू कर देता है| निकिता यह सब देख कर काफी ज्यादा रोने लगती है| निकिता इन सभी चीज़ों को अपने दिमाग से बाहर निकाल कर बस सोचती है कि शायद अरमान के लिए इतना कुछ बहुत होगा| तभी थोड़ी ही देरी में अरमान, निकिता की ब्रा का हुक पीछे से खोल देता है और निकिता के बूब्स से धीरे-धीरे लटकते हुए उसकी ब्रा नीचे की तरफ गीर जाती है|

वह बिना देरी किये निकिता बूब्स को आम की तरह चूसना शुरू कर देता है और इसी के साथ निकिता के भी पछतावे के आँसू रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे| निकिता मन ही मन तेजी से रो रही थी और बस यहीं सोच रही थी और सोच रही थी की जिस शरीर पर पहला हक़ उसके पति का था, उसे कोई और अपने गंदे हाथों से मैला कर रहा है| किसी अनजान पुरुष को अपने बूब्स को चूसता देख निकिता अंदर से अब पुरी तरह से टूट चुकी थी|

निकिता एक लचीले बदन वाली गौरी और कुँवारी लड़की थी| उसने अपनी पूरी जिंदगी में किसी पुरुष की इस तरह हाथ भी नहीं लगाने दिया था| और आज एक गंदा पुरुष उसके गुप्त अंगों को इस प्रकार से छू रहा था|

कुछ ही देर बाद अरमान ने निकिता के रसीले होठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे जोर-जोर से चूमने लगा| निकिता ने एक के बाद एक नाकाम कोशिश की उसे रोकने की, लेकिन अरमान रुकने को तैयार ही नहीं था| अरमान के दिमाग में बस उसी गुफा की तस्वीरे आ रही थी जिसे उसने कंप्यूटर पर निकिता को कुर्सी पर फैलाते हुए देखा था|

वाह|| कितनी मस्त गुफा थी तुम्हारी, मैं कब से उस लचीली गुफा मैं अपने ओजार को डालने के लिए बेताब हूँ|- अरमान, निकिता से कहता है

बस इतना सुनकर तो निकिता के होश ही उड़ जाते है| वो तेजी से रोते हुए नग्न अवस्था में ही अरमान के पैरों में जा गिरती है| और अरमान के पैरों में गिडगिडाते हुए कहती है प्लीज़ मेरे साथ ऐसा मत करो| मेरी शादी होने वाली है और अभी मैं वर्जिन हूँ अगर मेरे पति का इस बारे में पता चला तो वह मुझे छोड़ देंगे|

प्लीज में मर जाउंगी, मैं बर्बाद हो जाउंगी मेरी जिंदगी को इस तरह से तबाह मत करो| – निकिता ने अपनी बात को आगे बढाते हुए कहा

अरमान एक शादी-शुदा इंसान था और वह निकिता की बातों को अच्छे से समझ सकता था| लेकिन वो इस तरह हाथ आया मौका भी गँवा नहीं सकता था|

उसने अपने मन में ही काफी सोच-विचार किया और सोचा की यह मेरे लिए एक दूध देती गाय है मैं जब चाहू इसका इस्तेमाल कर सकता हूँ| यह सच कह रही है अगर इसके पति ने इसे छोड़ दिया तो इसकी जिंदगी बर्बाद हो जायेगी और साथ ही मेरा काम भी अधूरा ही रह जाएगा|

तभी अरमान ने एक अच्छा इंसान बनते हुए कहा देखो, मैं तुम्हारी परेशानी को काफी अच्छे से समझ सकता हूँ और मैं एक अच्छा इंसान हूँ इसलिये मैं कभी नहीं चाहूँगा कि तुम्हे ऐसी किसी किसी परेशानी से उलझना पड़े| मैं तो बस तुमसे जो चाहता हूँ तुम मुझे वो दे दो मैं तुम्हें फिर कभी नुकसान नहीं पहुचाऊंगा|

मैं तुम्हारी योनी के साथ अभी कुछ नहीं करुंगा, लेकिन तुम्हें अपने पति के साथ एक बार संभोग कर लेने के बाद बाद में मेरे साथ संभोग करने का वादा करना होगा|

तुम्हारे पति अमेरिका में रहते है शादी के बाद शायद तुम भी अमेरिका चली जाओगी? – अरमान ने पूछा

हां – कहते हुए निकिता ने जवाब दिया

देखो मैं एक अच्छा इंसान हूँ मैं तुम्हें और ज्यादा परेशान नहीं करना चाहता हूँ| तुम अमेरिका जाने से पहले मेरे साथ एक बार सेक्स कर लो उसके बाद  तुम अपने रास्ते और मैं अपने रास्ते, लेकिन जब तक तुम अपने पति के साथ अपना पहला सम्भोग नहीं करती तब-तक मैं तुम्हारी योनी मे अपना ओजार प्रवेश नहीं करूँगा| लेकिन मैं तुम्हारे साथ दूसरी चीज़ें जरुर करूँगा|

इतना सुनते ही निकिता अपना सलवार नीचे की तरफ सरका देती है| अरमान, निकिता को ज़मीन से उठाकर एक कुर्सी पर बैठा देता है और इतनी देर से एक नंगी लड़की को देख कर उसका ओजार जो उफान पकड़ा हुआ था उसे अपनी पेंट के रास्ते से बाहर निकाल देता है|

अरमान के लम्बे ओजार को देखकर निकिता हक्की-बक्की रह जाती है| अरमान का ओजार काफी कडक और नसों से भरा हुआ था| अरमान निकिता को अपना मुंह खोलने के लिए कहता है| निकिता, अरमान की बातों को मानकर अपना मुंह खोल देती है|

अरमान बिना किसी देरी के एक ही झटके के अंदर अपना ओजार निकिता के मुंह में उतार देता है और निकिता को अपना ओजार चूसने के लिए कहता है|

निकिता को इन सबकी जरा भी आदत नहीं थी| उसने बस आदित्य के साथ कुछ पोर्न फ़िल्मे देखी थी जिसको ध्यान में रखते हुए निकिता,अरमान के ओजार को धीरे-धीरे चूसने लग जाती है|

निकिता उसके गंदे ओजार को देखकर काफी चिड़ी हुई रहती है, लेकिन वक्त की मार के कारण उसे यह सब करना होता है| निकिता को उसके ओजार से काफी घिन आ रही थी लेकिन अरमान एक के बाद एक उसके बूब्स को जोरों से मसल रहा था इसलिये घीन की परेशानी उसके चेहरे तक नहीं पहुँच पा रही थी| धीरे-धीरे अरमान, निकिता के मुंह में अंदर तक अपना ओजार घुसा देता है और धीरे-धीरे अपने ओजार से निकिता के मुंह में झटके देने लगता है|

पहले तो निकिता को यह सब काफी अजीब लगने लगता है, लेकिन बाद में निकिता आनन्द से इस सब को करने लगती है| कुछ ही देर में अरमान का गर्म वीर्य निकिता के मुंह में गिर जाता है और झटपटाहट के कारण निकिता उस वीर्य को बाहर ही थूक देती है|

धीरे-धीरे अरमान, निकिता के स्तन से अपना हटाकर सीधा उसकी गुफा में अपना हाथ फेरने लग गया था| निकिता की गुफा हाथ लगाने में काफी नर्म लग रही थी, जिसे महसूस कर के अरमान को खुद पर गर्व हो रहा था क्योंकि उसके हाथ ये बड़ी मछली जो फस चुकी थी|

निकिता के लिए ये सब एक डरावने सपने के जैसा था| क्योंकि अभी कुछ ही समय पहले वह अपने पति से पूर्ण संभोग करने की केवल तैयारियाँ ही कर रही थी, और दूसरी तरफ अरमान के साथ वो ऐसा सबकुछ होता हुआ महसूस कर के तड़प रही थी| लेकिन इसमें निकिता की भी कोई गलती नहीं थी अगर उसका पति शादी तक का इंतजार कर लेता तो उसे आज यह सब नहीं सहना पड़ता|

दूसरी तरफ उसके दिमाग में यह भी चल रहा था कि आगे इस सब के बारे में उसके घर वाले और उसके पति को पता चल गया तो कि वह किसी अनजान इंसान का ओजार अपने मुंह में लेती है तो वह कभी किसी को मुंह तक दिखाने के लायक नहीं रह जायेगी|

मुंह में लेने की प्रक्रिया में निकिता अब तक यह महसुसू कर चुकी थी कि अरमान के मौटे ओजार को वह बड़ी सहजता से अपने मुंह में ले पा रही है उसे इसमें जरा सी भी दिक्कत नहीं हो पा रही थी| दूसरी तरफ अरमान भी यह बात जानता था कि निकिता अभी इन सब में बिलकुल नयी है यहाँ तक की उसे तो इतना भी नहीं पता है कि आखिर ओजार को सही प्रकार से मुंह में कैसे लिया जाता है| लेकिन अरमान यह बात जानता था और यह भी जानता था कि इससे पहले की यह चिड़िया उसके हाथ से उड़ जाए अरमान उसे पूरी तरह से शिक्षित कर देगा|

कुछ दिन तक ऐसा ही चलता रहा निकिता रोज अपने घर से उसी समय निकलती और सीधा अपने पति के सामने अंग प्रदर्शन और थोड़ी कुछ बातचीत कर के अरमान के कार्यालय में उसे खुश करने के लिए चढ़ पड़ती| निकिता अब यह महसूस कर सकती थी कि उसके पति से ज्यादा अब वह अरमान के साथ सहज महसूस कर रही है| काफी समय ऐसा चलता रहा लेकिन निकिता में ना तो आदित्य को बताने की हिम्मत थी और नाही अपनी फ्रेंड आरती को यह सब कह पाने की ताकत थी|

एक कुँवारी लड़की को कैसे खुश करते है अरमान इस बात को काफी अच्छे से जानता था| क्योंकि वह पहले से ही शादी-शुदा था और यहीं नहीं उसके दो बच्चे भी थे| उसकी वाइफ में अब वो बात नहीं थी इसलिये वह गलत विचारों वाली औरतों और वेश्याओं के सहारे संभोग सुख लेता था| निकिता एक से अधिक बार इस चीज़ को करते हुए इतना सहज हो चुकी थी कि अपने पति के सामने उसे अब जरा भी शर्म नहीं होती थी, क्योंकि अरमान उसे अब तक अच्छे से शिक्षित कर चुका था| रोज की तरह निकिता एक बार फिर अरमान के कार्यालय में जाती है और इस बार अरमान काफी जोश में लग रहा था और कुछ नया ट्राई करने के लिए भी तैयार था|

इस बार वह पहले से कुर्सी पर बस शॉट्स में बैठा हुआ था| उसने सबसे पहले निकिता को अपने उपर बैठा लिया और काफी हलके से निकिता को चूमा, लेकिन इस बार निकिता ने भी इसका जवाब दिया, उसे चूमने में काफी आनंद आने लगा था| काफी देर तक वह एक दूसरे को ऐसे ही चुमते रहे और कुछ ही देर में अरमान, ने निकिता की योनी में अपनी उंगलिया घुसा दि और उसे एक और नया अनुभव देने लगा| निकिता यह सब देख कर एक दम से झट-पटा गयी उसे काफी ज्यादा मजा आ रहा था| लेकिन वह इस सब के लिए तैयार नहीं थी, इसलिये वह अपने हाथों से एका-एक कर के अरमान का हाथ उसकी योनी से हटा रही थी|

अरमान उसका हाथ हटाते हुए कहता है देखों मेरी बात मानों तुम्हें थोड़ी देर अजीब लगेगा, लेकिन कुछ देर में तुम सहज महसूस करने लगोगी, क्योंकि तुम हर चीज़ काफी अच्छे से सीख जाती हो|

और कुछ ही देर में अरमान, निकिता को ज़मीन पर लेटने के लिए कहता है| निकिता उसकी बात सुन कर चुप चाप ज़मीन पर लेट जाती है| अरमान धीरे से अपनी गर्दन को निकिता की योनी की तरफ झुका कर उसे चाटने लगता है और इतने में निकिता की साँसे गहरी हो जाती है| निकिता अब अपने आप को तेजी से उत्तेजित होता देख सकती थी| निकिता को इतना अच्छा पहले कभी भी नहीं लगा था वह चरम सुख का अनुभव कर रही थी|

वहीँ अरमान को भी पता था कि वह निकिता को तैयार करने में पूरी तरह से कामयाब हो गया है| अरमान के पास यह सही मौका था निकिता की गुफा में अपने ओजार को प्रवेश दिलाने का लेकिन वह अपनी बात का पक्का था| इसलिये वह ऐसा कुछ नहीं करता है| निकिता ने पोर्न में भी लड़की की योनी को चूसते हुए देखा था इसलिये वह इस सब से काफी उत्तेजित हो रही थी| निकिता अपने हाथ से अरमान को पीछे की तरफ धकेलने की हर नाकाम कोशिशें कर रही थी, लेकिन अरमान एक भूखे शेर की तरह अब उस पर सवार हो चुका था| अरमान अपनी जीभ से लगातार निकिता के बीज को चाट रहा था, और निकिता ऐसा होता देख अपने आपे से बाहर होती जा रही थी,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,