Home » पति के खातिर मुझे पराये मर्दो ने चोदा

पति के खातिर मुझे पराये मर्दो ने चोदा

हेलो दोस्तों, मेरा नाम रवीना है और मैं दिल्ली की रहने वाली हु। मेरी उम्र ४२ साल है और मेरे पति की उम्र ४५ साल है। हमारी एक बेटी है जो ऑस्ट्रेलिया में पढ़ रही है। मैं एक बहुत ही बड़ी चुडासी और हमेशा प्यासी किस्म की औरत है। जवानी से ही मैं सेक्स स्टोरी और पोर्न वीडियोस को देखती रहती हु। मेरी पहले बार सील टूटी जब मैं सिर्फ १७ साल की थी। मेरी चूचियों का साइज ४० है और मेरी कमर आज भी किसी जवान लड़की से कम नहीं। मेरी गांड काफी बड़ी है और हर लड़का बस उसी चीज़ के लिए पागल है। 

कॉलेज के वक़्त से ही मेरे लड़को के साथ अफेयर थे और मैं काफी बार ग्रुप सेक्स भी किया है। यह बात मेरे पति को पता नहीं। शादी के बाद भी मेरे काफी लड़को के साथ चक्कर रहे। लेकिन सारे चक्कर सिर्फ एक रात के लिए थे। प्यार हमेशा से मेरे पति, रोहित के साथ ही था। रोहित भी मुझे काफी प्यार करता है। सब कुछ सही चल रहा था, हम लोग रोज़ सेक्स करते थे। एक दिन वो अपने ऑफिस से आया, खाना खाया और बिना कुछ बात करे सो गए। मुझे लगा शायद थक गए होंगे, इसलिए सो गए। अब यह सिलसिला चलता रहा, एक हफ्ते तक मैंने सेक्स नहीं किया। सोचो जो औरत हर रोज़ सेक्स करती है और एक हफ्ता बिना लंड के, मौत के बराबर था। 

एक दिन वो कमरे में आये और सीधा सोने की तैयार करने लगे। मैंने कुछ नहीं कहने की एक्टिंग की। जैसे ही वो लेते, मैं तुरंत उनका लंड कसकर पकड़ लिया और कहाजल्दी बताओ, क्या बात है वरना और ज़ोर से मसल दूंगी

काफी देर तक वो चुप रहे और फिर मुझे बाहों में भर लिया। अचानक वो रोने लग गए, यह देखकर मैं परेशान हो गयी। मैं उन्हें पूछा की तुम्हे क्या हुआ अचानकउन्होंने ने कहा, बहुत बड़ा नुक्सान हो गया काम में, हमारा साइड बिज़नेस ख़तम हो गया, पूरा ६० लाख का कर्ज़ा हो गया

मैंने कहारोहित गहने भेच देंगे और गाडी भी गिरवी रख देंगे

रोहित ने कहाइन् सब से कुछ नहीं होगा, मैंने दोस्तों से बात की है, वो दो दिन में जवाब देंगे

मैंने कहातुम परेशान हो, मैं अपने दोस्तों और मम्मी पापा से बातें करती हु

धीरे धीरे करकर हमारा सब बिक गया, कुछ नहीं बचा। किसी दोस्त ने पैसे नहीं दिए। अचानक कोई रोहित का पुराना दोस्त लंदन से आया था। हम अगले दिन उसके घर पर गए। उसका घर बहुत ही बड़ा और आलीशान था। रोहित और वो दोनों बातें करने लगे। यह रोहित का सेठ था जिसका साथ पहले मेरे पति काम करते थे। रोहित और वो सेठ दोनों अंदर गए कुछ बातें की और हम वापिस घर पर आये। 

मैंने पूछाक्या कहा उन्होंने?”

रोहित ने कहावो सारे पैसे सुबह ही देने के लिए तैयार है, लेकिन उसने कहा की तुम्हारी बीवी मुझे तीन महीने के लिए चाहिए

सुनकर मैं चुप हो गयी। हमारे हालत और बिगड़ गए, कुछ भी नहीं बचा था गुज़ारा करने के लिए। 

मैंने रोहित से कहातुम अपने दोस्त को फ़ोन लगाओ, मैं तैयार हु

रोहित ने कहानहीं, मैं संभल लूंगा

मैंने कहाजो कहा मैंने वो करो, सब ख़तम है यहाँ, वह बेटी को भूका मारने का इरादा है क्या

उन्हें उदास चेहरे से सेठ को फ़ोन लगाया। वो तैयार हो गया पैसो के लिए, कल सुबह हमे पैसे मिलने वाले थे और मैं उसके पास जाने वाली थी। पहले दिन मैं होटल में थी। उस दिन कोई भी नहीं आया, मेरे रहने और खाने का सब ख्याल रखा जा रहा था। मुझे समज नहीं रहा था क्या होगा। 

सेठ आया अचानक और मुझे अपनी तरफ खींचा और कहाथोड़ी देर बाद दो मेरे पार्टनर आएंगे, उनको ज़रा खुश कर देना

यह कहकर वो चला गया। एक घंटे बाद दो बहुत ही लम्बे और अच्छे शरीर वाले लड़के आये। एक का नाम सलमान और दूसरे का ज़ुबैर था। उन्होंने मुझे बेड पर लेटाया और सलमान मेरी कुर्ती उतारकर चूचियों को दबाने लगे। दूसरी तरफ ज़ुबैर ने मेरी चुत को मसलने लगा। देखा जाए तो मुझे काफी मज़ा रहा था, क्यूंकि काफी सालों बाद पराया लंड मुझे मिला था। दोनों लड़को ने मेरे सारे कपडे उतार दिए और खुद ने भी अपने अजीब से कपडे उतार दिया। वो दोनों मुझे छेड़ते वक़्त बातें कर रहे थे। उनकी भाषा मेरे समाज के बहार था, लेकिन बार सेक्सी सेक्सी बोल रहे थे। 

सलमान ने मुझे इश्हारा किया लंड चूसने का और मैंने सीधा उनका लंड मुँह में ले लिए। दोनों के लंड काफी लम्बे और गोर थे। मैं खूब मज़े लेकर दोनों के लंड को चूस रही थी। मैं एक साथ दोनों के लंड को चूस रही और वो दोनों मेरी चुत में ऊँगली दाल रही थे।  अब तक मेरी चुत बिलकुल गरम हो चुकी थी और दोनों झड़ ही नहीं रहे थे, पता नहीं कितने मजबूत लंड थे दोनों का। 

उसके बाद दोनों ने मुझे कुटिया की पोजीशन में आने के लिए कहा और एक ने मेरे पीछे से बाल पकड़ लिया और मेरी गांड में सीधा लंड घुसा दिया। सच कहु तो पहली बार किसी ने मेरी गांड में पीछे से लंड डाला। मैं ज़ोर से चिलायी लेकिन दोनों ने मेरे मुँह पर हाथ रख दिया। सबसे पहले सलमान ने मेरी काफी ज़ोर से गांड मारी साथ में वो मेरी गांड पर भी थप्पड़ मार रहा था और आगे से ज़ुबैर ने मुझे रंडी बनाकर रख दिया था। वो मेरे गालों पर थपड मार मारकर मेरे मुँह में अपने लंड को घुसा रहा था। मुझे लगा था यह मेरी चुत को मारेंगे, लेकिन इन्हे भी मेरी गांड ही पसंद आयी। उसके बाद ज़ुबैर आया और फिर उसने मेरी गांड में लंड घुसाया, सामने से सलमान ने अपना सारा रस में मुँह में उतार दिया और मुझे पीने के लिए कहा। मैंने बड़ी मुश्किल से वो पीया, इतना कड़वा उफ्फ्फ्फ़। ज़ुबैर ने मेरी गांड मारने के बाद मेरी चुत में अपना लंड घुसना शुरू किया फिर तो जन्नत जैसा सुकून मिल गया मुझे। मैं अब हर दर्द को सहन करने के लिए तैयार थी। तकरीबन २० मिनट के बाद ज़ुबैर मेरी गांड में ही झड़ गया। 

फिर सलमान ने मेरी टांगों को उठाकर मेरी चुत को और खुश हुआ। दोनों लड़के चुदाई में बहुत ही एक्सपर्ट थे, उन्हें पता था की एक औरत को कैसे खुश करना है। आखिर में उन्होंने मुझे बेड से उठाकर ज़मीन पर लेता दिया और दोनों लड़के मेरे ऊपर पिसाब करने लग गए। मेरा बदन बिलकुल भीग चूका था, लेकिन ऐसी चुदाई के बाद तो मैं उनके मूत में नहाने के लिए भी तैयार हु। उठकर मैं बाथरूम गयी और जल्दी से नाहा ली, मैं लौटी तो पूरा कमरा साफ़ था। उन्होंने फिर कुछ करने के लिए नहीं कहा, वो दोनों शराब पी रहे थे। मैंने उनके सामने टॉवल नीचे गिरा दिया और म्यूजिक चालू कर दिया। मुझे पैसो का लालच था तो मैं उनके सामने नाचने लग गयी। इससे देखकर वो भी चौक गए और वो भी खुश हो गए। उस रात मैंने दोनों लड़को को खुश कर दिया। 

मैंने अपने पति के खातिर सब कुछ किया और अब हमारे हालत ठीक है। लेकिन सलमान और ज़ुबैर ने सेठ से कहा की हमे यही औरत चाहिए बार बार। अब जब भी वो इंडिया आते तो मुझे बुलाते और कभी कभी मैं भी दुबई चली जाती हु। क्यूंकि दोनों लड़के दुबई के थे। यह बात अब तक रोहित को पता नहीं। दोस्तों यह थी मेरी एक ज़िन्दगी की कहानी, आप सब इस कहानी से खुश हुए या नहीं यह ज़रूर बताना।