Home » महिला कंडोम क्या है? इसके इस्तेमाल के तरीकें और फायदे

महिला कंडोम क्या है? इसके इस्तेमाल के तरीकें और फायदे

महिला कंडोम का इस्तेमाल भी यौन संचारित रोग और प्रेग्नेंसी से बचने के लिए किया जाता है। महिला कंडोम में बस फर्क इतना ही है कि इन्हें पुरुष की जगह महिलाएं द्वारा उनकी योनि में इस्तेमाल किया जाता है। आमतौर पर देखा जाए तो पुरुष कंडोम को पुरुष द्वारा अपने लिंग के ऊपर धारण किया जाता है, जबकि महिला कंडोम को महिला द्वारा अपनी योनि के अंदर लगाया जाता है। इस लेख में हम महिला कंडोम से जड़ी सभी चीजों के बारे में आपको परिचित करवाने वाले है। मुख्य रूप से हम जानेंगे की महिला कंडोम क्या है? साथ ही जानेंगे इसके फायदे ओर लगाने के तरीकों के बारे में, तो चलिए जानते है।

महिला कंडोम क्या है?

जैसा कि हमने बताया कि महिला कंडोम पुरुष की ही तरह यौन संचारित रोग व प्रग्नेंसी से बचने के लिए योनि का एक कवच है। महिला कंडोम में फर्क सिर्फ इतना ही है कि इसे पुरुष की जगह महिलाओं द्वारा पहना जाता है। प्रग्नेंसी व यौन संबंधित रोग के लिए पुरुष तो कंडोम पहनता ही है लेकिन कई मामलों में महिलाएं भी इसे सावधानी के लिए एक ज़रुरी विकल्प के रूप में इस्तेमाल कर सकती है। शायद काफी लोग पहले से ही जानते होंगे, लेकिन फिर भी हम बताना चाहेंगे कि कंडोम का इस्तेमाल प्रेग्नेंसी व अन्य यौन रोगों से बचाव के लिए किया जाता है। भारत मे महिला कंडोम का प्रचलन इतना ज्यादा नही है और ना ही भारतीय महिला इसे सेक्स करते वक्त अपने बचाव के लिए एक विकल्प के रूप में प्रयोग करती है। महिलाओं द्वारा, महिला कंडोम का इस्तेमाल ना करने की कई वजह है जैसे कि बहुत कम ही ऐसी कंपनियां है जो महिला कंडोम बनाती है इसलिए इसकी बिक्री भी बहुत सीमित है। इसके अलावा ज्यादातर महिलाओं को महिला कंडोम के बारे में सही से जानकारी ही नही है और यह भी एक मुख्य कारण है कि भारत मे अभी महिला कंडोम का चलन इतना ज्यादा नही है।

महिला कंडोम का काम भी बिल्कुल पुरुष कंडोम की तरह ही है। महिला कंडोम को महिला द्वारा उनकी योनि के आंतरिक भाग में सेट किया जाता है जिससे यह बाहरी गूदा ओर आंतरिक योनि में कवच की तरह काम करता है। महिला कंडोम पुरुष शुक्राणुओं को महिला के अंडे तक नही पहुंचने देता है जिससे महिला प्रेग्नेंट नही होती है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि अगर पुरुष सावधानी नही रखता है तो महिला इसे खुद अपनी सावधानी के लिए एक विकल्प के रूप में इसका प्रयोग कर सकती है। महिला कंडोम से एसिडिटी ओर यौन रोग से भी बचा जा सकता है ये भी इसके बढ़िया फ़ायदों में से एक है।

महिला कंडोम को लगाने के तरीके

महिला कंडोम को महिलाओं की योनि के आंतरिक भाग में लगाया जाता है। लेकिन सवाल ये उठता है कि क्या ये योनि को ठीक प्रकार से ढ़क पाता है? महिला कंडोम पुरुष कंडोम की अपेक्षा काफी बड़े होते है यह महिलाओं की योनि को ठीक प्रकार से ढकने में बिल्कुल सक्षम होता है। नीचे महिला कंडोम को लगाने के तरीकों के बारे में बताया गया है –

1 कंडोम को खरीदने से पहले यह ध्यान रखे कि इसकी एक्सपायरी डेट ना निकल गयी हो।

2 पैकेट में से ठीक प्रकार से कंडोम निकाल लेने के बाद महिला इसे कही पर बैठकर अथवा लेट कर इसे लगा सकती है।

3 एक बार किसी आरामदायक जगह पर बैठ अथवा लेट जाने के बाद आप कंडोम के बंद वाले हिस्से को अपनी योनि के अंदर डाल देवे। आप कंडोम को जितना संभव हो अपनी उंगली की सहायता से अंदर की तरफ डाल सकती है।

4 अब कंडोम का 1 या 2 इंच तक का हिस्सा अपनी योनि के बाहर ही लटका कर रखे।

5 इन सभी स्टेप को पूरा करने के बाद अपने पार्टनर को अपनी योनि में ठीक प्रकार से लिंग को डालने में मदद करें। ध्यान रहे कि कहीं कंडोम आपकी योनि के अंदर ही ना चले जाएं। एक बार जब आपको लगे कि कंडोम की स्थिति सेक्स के दौरान बिगड़ गयी है तो पार्टनर को रोक कर दोबारा से ठीक करने की कोशिश करे।

6 कंडोम को लगाने के साथ ही सेक्स करने बाद इसे उतारने में भी सावधानी रखें। कंडोम उतारते समय ध्यान रखे कि कहीं वीर्य आपकी योनि के अंदर ना चले जाएं।

महिला कंडोम के फायदे

अब तक हम जान चुके है कि महिला कंडोम क्या है और इसे लगाने के तरीके क्या है। तो चलिए अब नीचे हम इसके फ़ायदों के बारे में भी जान लेते है।

1 महिला कंडोम का सबसे बड़ा फायदा यह हैं कि अगर पुरुष सावधानी नही रखता है तो महिला इसे अपनी सावधानी एवं बचाव के लिए एक विकल्प के रूप में उपयोग कर सकती है।

2 महिला कंडोम को बनाने के लिए नाइट्रील नाम के एक नरम प्लास्टिक का उपयोग किया जाता है। जिसका सबसे अच्छा फायदा यह है कि यह त्वचा को संवेदनशील या एलर्जी जैसी समस्या नही करता है।

3 महिला कंडोम को महिला सेक्स से पहले यानी कि 5 से लेकर 8 घण्टे पहले भी अपनी योनि में लगा सकती है।

4 पुरुष कंडोम की तरह महिला कंडोम में भी चिकनाहट के लिए पदार्थों का प्रयोग होता है।

5 पुरुष कंडोम के मुकाबले महिला कंडोम अधिक सुरक्षा प्रदान करता है साथ ही यह योनि के ज्यादातर हिस्सों को भी ढक देता है।

6 महिला कंडोम के उपयोग से एचपीवी ओर हर्पिस जैसे संक्रमणों से बचा जा सकता है।

7 महिला कंडोम बिल्कुल सुरक्षित है और इससे किसी तरह की परेशानी नही होती है। साथ ही इसका इस्तेमाल पीरियड्स के दौरान भी किया जा सकता है।

8 महिला कंडोम का जो बाहर वाला हिस्सा है वह आपके योनि मुख को उत्तेजित करने में काफी फ़ायदेमंद साबित होता है। यह सेक्स के दौरान आपके आनंद को बढ़ाने में मदद करता है। महिला कंडोम के बहुत फायदे है जिनमे से सबसे जरूरी फायदों को हमने आप से साझा कर दिया है।

महिला कंडोम के विषय मे ध्यान रखने योग्य बातें

1 महिला कंडोम पुरुष कंडोम के मुकाबले काफी महंगा होता है। यह पुरुष कंडोम से 4 या 5 गुना ज्यादा महंगा हो सकता है।

2 ध्यान रहे, कभी भी पुरुष कंडोम के साथ महिला कंडोम का इस्तेमाल ना करें। ऐसा करने पर कंडोम फटने के खतरा बढ़ सकता है। साथ ही ऐसी आवाजें भी उत्पन्न हो सकती है जो आपको सेक्स के दौरान परेशान कर सकती है।

3 महिला कंडोम में आप चिकनाहट के लिए अलग से भी चिकना हट पैदा करने वाले तेलों का इस्तेमाल कर सकते हो।

4 महिला कंडोम को कभी भी दोबारा इस्तेमाल करने का प्रयास भूल से भी ना करें।

5 सेक्स के दौरान महिला कंडोम ठीक से ना लगाने पर महिला कंडोम खिसक सकता है। इसलिये सेक्स से पहले ही महिलाएं इसे ठीक से लगाने का अभ्यास कर सकती है।

6 सेक्स के दौरान अगर आपको घर्षण की वजह से महिला कंडोम में आवाज़ का सामना करना पड़े, तो इसके लिए अतिरिक्त चिकनाहट का भी उपयोग किया जा सकता है।

7 यदि महिलाएं इस कंडोम का उपयोग गुदा वाले स्थान पर कर रही है तो यह मुमकिन है कि महिलाओं को जलन की समस्या होने लगे।